Feature

5 मौके जब किसी भारतीय कप्तान को आईसीसी फाइनल में हार का सामना करना पड़ा

Share The Post

किसी भारतीय कप्तान को आखिरी बार आईसीसी फाइनल में 2013 में जीत मिली थी और तब से कोई भी भारतीय कप्तान आईसीसी टूर्नामेंट का फाइनल नहीं जीत पाया है। हालांकि भारतीय टीम 2013 के बाद कई आईसीसी फाइनल का हिस्सा बने लेकिन टीम को सफलता प्राप्त नहीं हुयी। हाल ही में में भारतीय टीम को आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था और इस तरह टीम को एक और फाइनल में हार मिली।

यह भी पढ़ें: टी20 विश्वकप इतिहास के टॉप 4 गेंदबाजी प्रदर्शन

हालांकि ऐसा केवल 2013 के बाद से ही नहीं हुआ है कि कोई भी भारत का कप्तान फाइनल नहीं जीता। इसके पहले भी कई कप्तान आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल तो पहुंचे लेकिन उन्हें जीत नहीं मिली। इस आर्टिकल में हम ऐसे ही 5 भारतीय कप्तानों के बारे में बात करने जा रहे हैं, जिन्हें आईसीसी फाइनल में जीत नहीं मिली।

Advertisement

5 मौके जब किसी भारतीय कप्तान को आईसीसी फाइनल में हार का सामना करना पड़ा

5. सौरव गांगुली – आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2000

2002 में खेली गयी आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में न्यूजीलैंड के साथ-साथ भारतीय टीम ने भी सौरव गांगुली की कप्तानी में फाइनल में प्रवेश किया था। भारत ने पहले बल्लेबाजी की और सौरव गांगुली ने 130 गेंदों में 117 रन बनाकर भारत को 50 ओवरों में 264/6 का स्कोर खड़ा करने में मदद की।

82-3 के स्कोर के साथ न्यूजीलैंड एक समय मुश्किल में था, लेकिन क्रिस केर्न्स के शानदार शतक और क्रिस हैरिस के योगदान ने टीम को दो गेंद शेष रहते हुए जीत दिला दी। न्यूजीलैंड ने चार विकेट से फाइनल जीता और भारत सौरव गांगुली की कप्तानी में अपना पहला आईसीसी फाइनल हार गया।

4. सौरव गांगुली – आईसीसी विश्व कप 2003

यह एक भारतीय प्रशंसक के लिए सबसे ज्यादा दिल तोड़ने वाली हार है। भारतीय टीम विश्व कप से पहले शानदार फॉर्म में नहीं थी, लेकिन उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में 2003 विश्व कप के फाइनल में पहुंचने के लिए कुछ उच्च गुणवत्ता वाली क्रिकेट खेली। फाइनल में भारत का सामना ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम से हुआ।

Advertisement

फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों के खिलाफ जमकर रन बटोरे और 50 ओवर में 359/2 का स्कोर बनाया। पोंटिंग ने 140 रन की शानदार पारी खेली थी। इतने बड़े टारगेट के सामने भारतीय टीम बिखर गयी और टीम 234 के स्कोर पर ढेर हो गयी। इस तरह फाइनल में भारत को 125 रन से हार मिली।

3. एमएस धोनी – आईसीसी टी20 विश्व कप 2014

भारत ने 2014 में बांग्लादेश में हुए टी20 विश्व कप में कुछ बेहतरीन क्रिकेट खेली थी। भारत ने अपने स्पिनरों और विराट कोहली के रनों की मदद से फाइनल में जगह बनाई थी। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 130 रन ही बना पाए। युवराज सिंह फाइनल में लय में नहीं दिखे क्योंकि उन्होंने 21 गेंदों में केवल 11 रन बनाए थे।

श्रीलंका ने केवल 17.5 ओवर में 6 विकेट लेकर आसानी से लक्ष्य का पीछा किया। आईसीसी की तीनों ट्रॉफी जीतने वाले एमएस धोनी को आखिरकार आईसीसी फाइनल में हार को मुंह देखना पड़ा।

Advertisement

2. विराट कोहली – आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017

विराट कोहली आईसीसी ट्रॉफी में पहली बार भारत का नेतृत्व कर रहे थे और भारत 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पहुंचने में सफल रहा। भारत के सामने पाकिस्तान था, जिसे उन्होंने लीग चरण में आसानी से हरा दिया था। भारत ने टॉस जीतकर सपाट विकेट में गेंदबाजी करने का निर्णय लिया।

पाकिस्तान ने अपने 50 ओवरों में फखर जमान की 106 गेंदों में 114 रन की मदद से 338/4 का विशाल स्कोर खड़ा किया। 339 रनों का पीछा करते हुए, भारत ने तेजी से टॉप तीन विकेट खो दिए। हार्दिक पांड्या ने जरूर कुछ बड़े शॉट खेले लेकिन भारत 158 रन पर आउट हो गया था। विराट कोहली की कप्तानी में भारत अपना पहला आईसीसी फाइनल हार गया।

1. विराट कोहली – आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल 

भारत अंक तालिका में पहले स्थान पर रहने के बाद उद्घाटन विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंच गया। उन्होंने अपनी छह श्रृंखलाओं में से पांच में जीत हासिल की और फाइनल में जाने के लिए वो एक मजबूत टीम थी। फाइनल में टीम का सामने न्यूजीलैंड से था, जिसने भारत को लीग चरण में सीरीज में हराया था।

Advertisement

बारिश से बाधित मैच में न्यूजीलैंड ने एक बार फिर बेहतरीन खेल दिखाया और भारतीय टीम को फाइनल में आठ विकेट से हराते हुए आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप जीतने में कामयाबी हासिल की।

 

Advertisement
Advertisement

Advertisement

Share The Post

Abhay Singh

क्रिकेट का प्रशंसक हूं और अपने इसी शौक की वजह से मैं क्रिकेट लेखन के क्षेत्र में भी सक्रिय हूं।

Related Articles

Back to top button