FeatureStats

वनडे क्रिकेट के वो दिग्गज ओपनर जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में बहुत कम ओपनिंग की है

Share The Post

क्रिकेट में ओपनिंग जोड़ी की बेहद अहम भूमिका होती है। किसी कैच में सलामी बल्लेबाज यदि शानदार शुरुआत दे देते हैं। तब, न केवल मध्यक्रम के बल्लेबाजों के लिए आसानी होती है बल्कि टीम एक मजबूत स्थिति में भी पहुंच जाती है।

किसी भी खिलाड़ी के लिए क्रिकेट में ओपनिंग आसान नही होती है। ओपनिंग एक ऐसा प्लेटफॉर्म होता है जिसके लिए विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। नई गेंद के साथ बल्लेबाजी करना कभी आसान नही रहा है।

एक दिवसीय मैचों की बात करें तो ओपनर बल्लेबाजों को तेज और आक्रमक शुरुआत देने का प्रयास करना होता है। इसके विपरीत टेस्ट क्रिकेट में सधी हुई बल्लेबाजी करनी होती है। हालांकि, कई टीमें टेस्ट क्रिकेट में नम्बर 3 पर बल्लेबाजी करने के लिए भी नियमित ओपनर रखने का प्रयास करतीं हैं। ताकि, नई गेंद से पहले विकेट का पतन होने के बाद टीम को विकेटों के पतझड़ से बचाया जा सके।

Advertisement

चूंकि, टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करना कभी भी आसान नही रहा है। इसलिए आइये जानते हैं वनडे क्रिकेट के उन सलामी बल्लेबाजों के बारे में जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में बहुत कम ओपनिंग की है।

1.) एडम गिलक्रिस्ट

ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट न केवल ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बल्कि विश्व के सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाजों में से एक हैं। गिलक्रिस्ट ने अपने करियर में कुल 287 वनडे मैच खेले हैं। जिनकी 279 पारियों में उन्होंने कुल 9619 रन बनाए हैं। दिलचस्प यह है कि इस दौरान उन्होंने बतौर ओपनर 9200 रन अपने खाते में जोड़े हैं।

गिलक्रिस्ट के टेस्ट करियर की बात करें तो उन्होंने 96 टेस्ट मैचों की 137 पारियों में 5570 रन बनाए हैं। लेकिन टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करते हुए उनका रिकॉर्ड कुछ खास नही रहा। उन्होंने साल 2007 में न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट मैच की सिर्फ़ एक पारी में ही ओपनिंग की है। इस दौरान वह मात्र 20 रन बनाकर आउट हो गए थे।इसके अलावा, टेस्ट क्रिकेट में वह अधिकांश पारियों में नम्बर 7 पर बल्लेबाजी करते हुए दिखाई देते थे। नम्बर 7 पर बल्लेबाजी करते हुए गिलक्रिस्ट ने कई मैच जिताऊ पारियाँ खेलीं हैं।

Advertisement

2.) सौरव गांगुली

सौरव गांगुली अपने समय के सबसे शानदार बल्लेबाज रहे हैं। स्पिनर्स को फ्रंट फुट पर आकर छक्का मारना हो या फिर इंडियन क्रिकेटर्स में आक्रमकता का संचार करना हो। इन सबके लिए गांगुली ने हर संभव प्रयास किए हैं। सौरव गांगुली ने अपने करियर में कुल 311 वनडे हैं। जिनकी 300 पारियों में उन्होंने 15 हजार से अधिक रन बनाए हैं।

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली का टेस्ट करियर भी बेहद शानदार रहा। उन्होंने 113 मैचों की 188 पारियों में 7212 रन बनाए और भारत के लिए टेस्ट में सर्वाधिक रन बनाने वाले टॉप-10 खिलाड़ियों में से एक हैं।

एकदिवसीय क्रिकेट में ओपनिंग करने वाले गांगुली ने टेस्ट क्रिकेट में अपनी भूमिका में पूर्ण रूपेण परिवर्तन कर लिया था। टेस्ट क्रिकेट में गांगुली नम्बर 4, 5 यहाँ तक कि 6 नम्बर पर भी खेलते हुए दिखाई दिए। वनडे क्रिकेट में ओपनिंग करते हुए सौरव गांगुली ने 236 पारियों में 9146 रन बनाए। वहीं टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने मात्र एक ही पारी में ओपनिंग की। इस पारी में वह महज 11 रन ही बना सके।

Advertisement

3.) सचिन तेंदुलकर

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर का नाम लगभग हर रिकॉर्ड सूची में देखा जा सकता है। सचिन तेंदुलकर एकदिवसीय मैचों में विश्व के महानतम सलामी बल्लेबाज रहे हैं। उन्होंने वनडे क्रिकेट में ओपनिंग के अलावा, नम्बर 3 और 4 पर भी बल्लेबाजी की है।

वनडे क्रिकेट में बतौर ओपनर 15130 रन बनाने वाले सचिन तेंदुलकर ने टेस्ट क्रिकेट में मात्र एक बार ही ओपनिंग की है। सचिन ने साल 1999 में अहमदाबाद में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए टेस्ट मैच में पारी की शुरुआत की थी। इस पारी में वह महज 15 रन बनाकर आउट हो गए थे।

4.) हाशिम अमला

दक्षिण अफ्रीका के दिग्गज सलामी बल्लेबाज ने अपने वनडे करियर की शुरुआत ही बतौर ओपनर की थी। हालांकि, अपने करियर के 3 वनडे मैचों में उन्होंने नम्बर 3 पर भी खेलना पड़ा था। लेकिन, उन्होने अपने करियर को वास्तविक मुकाम तक पहुंचाने के लिए बतौर ओपनर ही बल्लेबाजी की थी।

Advertisement

टेस्ट क्रिकेट की बात करें तो हाशिम अमला टेस्ट क्रिकेट में नम्बर 3 पर ही बल्लेबाजी करते हुए देखे गए हैं। टेस्ट मैचों की 215 पारियों में 9282 रन बनाने वाले अमला ने दो पारियों में ओपनिंग की है। इन दो पारियों में उन्होंने 105 रन बनाए थे।लेकिन इसके बाद उन्हें टेस्ट मैचों में ओपनिंग करने का मौका नही दिया गया।

5.) क्विंटन डी कॉक

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान क्विंटन डी कॉक वनडे क्रिकेट के सलामी बल्लेबाजों में से एक हैं। डी कॉक दक्षिण अफ्रीका के लिए एकदिवसीय मैचों में बतौर ओपनर सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों में से एक हैं।

हालांकि, उन्हें शुरुआत में टेस्ट क्रिकेट में बहुत कम मौके दिए गए। लेकिन एक बार शानदार लय पकड़ने के बाद क्विंटन डी कॉक दक्षिण अफ्रीका की टेस्ट टीम में मध्यक्रम के सबसे शानदार बल्लेबाज हैं। वनडे क्रिकेट में ओपनिंग करते हुए 5 हजार से अधिक रन बनाने वाले डी कॉक को टेस्ट क्रिकेट में बतौर ओपनर अधिक सफलता नही मिल सकी। उन्होंने टेस्ट मैचों की 4 पारियों में ओपनिंग की है। जिनमें 35.24 के औसत से महज 141 रन ही बनाए हैं।

Advertisement

 

 

Advertisement
Advertisement

Advertisement

Share The Post

Related Articles

Back to top button