FeatureSocial

5 खिलाड़ी जो क्रिकेट के अलावा दूसरे खेल में शामिल हुए

Share The Post

किसी भी खिलाड़ी के लिए क्रिकेट खेलना शुरू करने से बड़ी बात है लंबे समय तक खेलते रहना। कई बार खिलाड़ियों को खराब प्रदर्शन या चोट के कारण क्रिकेट छोड़ना पड़ता है। ऐसे बहुत खिलाड़ी हुए जिन्होंने ऐसे ही कुछ कारणों से क्रिकेट छोड़ दूसरे खेल में दिलचस्पी दिखाई। पिछले कुछ दशकों में क्रिकेट ने काफी लोकप्रियता कमाई है।

कभी बस चुनिंदा देशों के बीच खेले जाना यह खेल आज दुनिया के 100 से भी ज्यादा देशों में खेला जाता है। बात अगर भारत की करे तो यहां क्रिकेट को त्योहार की तरह मनाया जाता है। क्रिकेट की बढ़ती लोकप्रियता में आईसीसी का बड़ा हाथ है। जिसके द्वारा किए बदलावों के कारण इस खेल की लोकप्रियता को बढ़ने में काफी मदद मिली। आज दुनिया के कई खिलाड़ी अपने देश के लिए खेलने का ख्वाब देखते है। कईयों को सफलता मिलती हैं तो बहुतों को निराशा।

इस आर्टिकल में हम आपको ऐसे 5 खिलाड़ियों के बारे में बताएंगे, जिन्होंने क्रिकेट के अलावा दूसरे खेल में हिस्सा लिया।

Advertisement

5 खिलाड़ी जो क्रिकेट के अलावा दूसरे खेल में शामिल हुए

1. एशले बार्टी

एशले बार्टी मोजूदा समय में दुनिया की नंबर 1 महिला टेनिस खिलाड़ी हैं। उन्होंने हाल ही में विंबलडन 2021 में महिला एकल चैम्पियनशिप जीता है। आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि बार्टी एक पेशेवर क्रिकेटर भी रह चुकी है। उन्होंने 2014 में अपने टेनिस करियर से ब्रेक लिया था और एक साल बाद ऑस्ट्रेलिया की टी20 महिला बिग बैश लीग में भाग लिया था। वह ब्रिस्बेन हीट के साथ जुड़ी थी।

2. एंड्रयू फ्लिंटॉफ

एंड्रयू फ्लिंटॉफ का नाम इंग्लिश क्रिकेट के इतिहास में सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडरों में लिया जाता है। फ्लिंटॉफ गेंद और बल्ले दोनों से ही मैच जीताने का दम रखते थे। उन्होंने इंग्लैंड टीम के लिए 79 टेस्ट, 141 वनडे और 7 टी20 मैच खेले। भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए 2007 टी20 विश्व कप का मैच भला किस भारतीय प्रशंसक को याद नहीं होगा। इस मैच में फ्लिंटॉफ और युवराज सिंह के बीच नोकझोक हुई थी और युवराज ने स्टुअर्ट ब्रॉड के अगले ही ओवर में लगातार छह छक्के जड़ दिए थे।

फ्लिंटॉफ ने अपना आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच अगस्त 2009 में खेला था। उसके बाद, उन्होंने एक पेशेवर मुक्केबाज बनने का फैसला किया।

Advertisement

3. जेम्स टेलर ने क्रिकेट के बाद दूसरे खेल में अपना ध्यान लगाया 

जेम्स टेलर इस सूची में शामिल होने वाले इंग्लैंड के दूसरे क्रिकेटर हैं। उन्हें 2015 विश्व कप के दौरान इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए मैच में शतकीय पारी खेलने के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है। उन्होंने इंग्लैंड के लिए कुल 7 टेस्ट और 27 वनडे मैच खेले।

टेलर को दिल की एक दुर्लभ बीमारी के कारण क्रिकेट छोड़ना पड़ा। जिसमें बाद उन्होंने गोल्फ पर अपना ध्यान केंद्रित किया।

4. क्रेग कीस्वेटर

क्रेग कीस्वेटर ने 2010 टी20 विश्व कप के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अर्धशतकीय पारी खेल इंग्लैंड को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने 49 गेंदों में 7 चौकों और दो छक्कों की मदद से 63 रन बनाए थे। उन्हें इस शानदार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच के पुरस्कार से नवाजा गया।

Advertisement

एक भयानक चोट के बाद उन्हें क्रिकेट को अलविदा कहना पड़ा। क्रिकेट छोड़ने के बाद उन्होंने ने भी जेम्स टेलर की तरह गोल्फ की ओर अपना ध्यान लगाया।

5. रूडी वैन वुरेने, एक ही वर्ष में क्रिकेट और रग्बी विश्व कप का हिस्सा बनने वाले एकमात्र खिलाड़ी

रूडी वैन वुरेने नामीबिया के पूर्व क्रिकेटर हैं। वह 2003 क्रिकेट विश्व कप में खेले गए नाम्बिया टीम का हिस्सा थे। 2003 विश्व कप में नाम्बिया टीम का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा।

विश्व कप के समाप्त होने के तुरंत बाद, रूडी वैन वुरेने ने अपना ध्यान रग्बी पर लगाया और 2003 के रग्बी विश्व कप के लिए नाम्बिया की टीम में जगह बनाई। आपको बता दे कि वो एक चिकित्सक भी हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement


Share The Post
Back to top button