Feature

2 भारतीय कप्तान जिनकी कप्तानी में टीम को टेस्ट में पारी की हार नहीं मिली

Share The Post

टेस्ट क्रिकेट में जब किसी भी टीम को पारी से हार का सामना करना पड़ता है तैयार उस टीम तथा उस टीम के कप्तान के लिए भी बहुत शर्मनाक बात होती है। हालांकि टेस्ट क्रिकेट में अक्सर पारी की हार देखने को मिलती है और बहुत कम ही ऐसे कप्तान हुए हैं जिनकी कप्तानी में टीम को कभी भी पारी की हार का सामना नहीं करना पड़ा हो। भारतीय (Indian Cricket Team) कप्तान के रूप में यह उपलब्धि मात्र दो ही कप्तानों ने हासिल की है।

हाल ही में भारत को इंग्लैंड के खिलाफ हेडिंग्ले टेस्ट में एक पारी और 78 रन से हार का सामना करना पड़ा और यह विराट कोहली की कप्तानी में भारत की दूसरी पारी की हार थी। इस आर्टिकल में ऐसे तो भारतीय कप्तानों का जिक्र करने जा रहे हैं जिनकी कप्तानी में टीम इंडिया को कभी भी पारी की हार का टेस्ट क्रिकेट में सामना नहीं करना पड़ा है।

इसके अलावा एक खास बात यह भी है कि इन दोनों ही कप्तानों की कप्तानी में भारत कभी भी टेस्ट क्रिकेट में 100 रन के अंदर ऑल आउट नहीं हुआ है।

Advertisement

मोहम्मद अज़हरुद्दीन और राहुल द्रविड़ ऐसे दो भारतीय कप्तान हैं, जिनकी कप्तानी में टीम को कभी पारी से हार नहीं मिली

मोहम्मद अजहरुद्दीन ने काफी समय तक भारतीय टीम के टेस्ट में कप्तानी की उन्होंने यह जिम्मेदारी के श्रीकांत से हासिल की थी। अज़हरुद्दीन ने 47 टेस्ट मैचों में भारतीय टीम की कप्तानी की और उनमें से 14 में से जीत हासिल की इस दौरान उन्हें 14 ही मैचों में हार मिली, लेकिन अजहर की कप्तानी में भारतीय टीम को कभी पारी की हार से सामना नहीं करना पड़ा।

दूसरे भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ हैं, जिनकी कप्तानी में भी भारत को कभी पारी से हार का सामना नहीं करना पड़ा है। भारतीय क्रिकेट के इतिहास में राहुल द्रविड़ को बतौर कप्तान बहुत ज्यादा नहीं सराहा जाता लेकिन उनकी उपलब्धियां ही उनकी कामयाबी को बताने के लिए काफी हैं।

द्रविड़ ने वेस्टइंडीज तथा इंग्लैंड जैसी चुनौतीपूर्व जगहों में अपनी कप्तानी में भारत को टेस्ट सीरीज जीत दिलाई। द्रविड़ ने भारतीय टीम की 25 टेस्ट मैच में कप्तानी की और इस दौरान आठ मैच जीते तथा छह मैचों में हार का सामना करना पड़ा। हालांकि इस दौरान भारत को कभी पारी से हार नहीं मिली।

Advertisement
Advertisement
Advertisement


Share The Post

Abhay Singh

क्रिकेट का प्रशंसक हूं और अपने इसी शौक की वजह से मैं क्रिकेट लेखन के क्षेत्र में भी सक्रिय हूं।

Related Articles

Back to top button