IPLNews

युजवेंद्र चहल का खुलासा, आरसीबी ने जो कहा था, मेगा नीलामी में वह नहीं किया

Share The Post

किसी भी फ्रेंचाइजी के लिए प्लेयर्स को रिलीज या रिटेंशन करना बेहद कठिन कार्य होता है। क्योंकि, इससे ही फ्रेंचाइजी के भविष्य के कम से कम तीन साल की स्थितियां तय होती हैं। आईपीएल 2022 की मेगा नीलामी से पहले रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने सिर्फ 3 प्लेयर्स को ही रिटेन किया था। जिनमें विराट कोहली, ग्लेन मैक्सवेल औए मोहम्मद सिराज का नाम शामिल है। लेकिन, आरसीबी द्वारा अनुभवी स्पिनर युजवेंद्र चहल को रिटेन न किया जाना हैरान करने वाला फैसला था।

गौरतलब है कि, युजवेंद्र चहल रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के साथ लंबे समय से जुड़े हुए थे। वास्तव में, चहल आईपीएल 2014 से आईपीएल 2021 तक आरसीबी के कैंप का हिस्सा थे। इस दौरान उन्होंने फ्रेंचाइजी के लिए लगातार बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए टॉप क्लास गेंदबाजी की थी। इसलिए, यह माना जा रहा था कि युजवेंद्र चहल आरसीबी की रिटेंशन सूची का हिस्सा हो सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि, बीते कुछ समय से इस बात को लेकर चर्चा थी कि, युजवेंद्र चहल ने खुद ही आरसीबी छोड़ने का फैसला किया था। हालांकि, अब चहल ने खुलासा करते हुए बताया है कि आरसीबी के डायरेक्टर माइक हेसन द्वारा उन्हें बताया गया था कि फ्रेंचाइजी सिर्फ तीन रिटेंशन के साथ आगे बढ़ रही है जिसमें उनका नाम नहीं है।

Advertisement

मुझसे रिटेंशन के बारे में नहीं की गई थी कोई बात: युजवेंद्र चहल

युजवेंद्र चहल ने कहा है कि, “वास्तविकता यह है कि माइक हेसन ने मुझे फोन किया था और कहा था कि, सुनो युज़ी आरसीबी में तीन रिटेंशन हैं। उन्होंने मुझसे यह नहीं पूछा कि, क्या मैं रिटेन करना चाहता हूं या फिर वह मुझे रिटेन करना चाहते हैं। उन्होंने सिर्फ तीन रिटेंशन के बारे में बात की थी और कहा था कि वे मेरे लिए मेगा नीलामी में प्रयास करेंगे।”

चहल ने आगे कहा कि, “न तो मुझसे पैसे के बारे में पूछा गया और न ही मुझे रिटेंशन का कोई ऑफर मिला। लेकिन मैं हमेशा आरसीबी के फैंस के लिए हमेशा वफादार रहूंगा, मैं उन्हें प्यार करता हूँ और वह भी मुझे प्यार देते रहे हैं।”

इस बातचीत में यूजी चहल ने यह भी कहा है कि, “बात यह है कि उन्होंने मुझसे कभी नहीं पूछा। आरसीबी की ओर से मुझे फोन किया गया था, जिसमें रिटेंशन के बारे में बताया गया था।अगर उन्होंने मुझसे यह पूछा होता कि क्या मैं रिटेन होना चाहता हूं, तो मैं हां कह देता। क्योंकि पैसा मेरे लिए सेकेंडरी है। आरसीबी ने मुझे बहुत कुछ दिया है, वास्तव में उन्होंने मुझे बड़ा मंच दिया है इसलिए मैं उनसे भावनात्मक रूप से जुड़ा हुआ हूं।”

Advertisement

 

Advertisement
Advertisement


Share The Post

Related Articles

Back to top button