CricketNews

IND vs SA: मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड मिलने के बाद हैरान क्यों हुए केएल राहुल?

Share The Post

भारतीय उप-कप्तान केएल राहुल (KL Rahul) सबसे छोटे प्रारूप में अपने स्ट्राइक रेट की वजह से आलोचनाओं का शिकार होते रहते हैं। हालांकि कल उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टी20 इंटरनेशनल मैच में जिस अंदाज में बल्लेबाजी की उससे आलोचकों को उनका जवाब मिल गया होगा।

Advertisement

राहुल ने गुवाहाटी के बरसापारा क्रिकेट स्टेडियम में दूसरे टी20 इंटरनेशनल मैच में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शानदार अर्धशतक जमाया। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने पर भारतीय टीम को केएल राहुल और कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने मजबूत शुरुआत दी। राहुल ने अपना खाता पहली गेंद पर चौका लगाते हुए खोला। उन्होंने पावरप्ले में तीन और चौके और एक छक्का लगाया जिससे उनका स्कोर 25(11) हो गया। इस दौरान केएल राहुल अटैकिंग मोड में नजर आए और रोहित शर्मा एंकर की भूमिका निभाते नजर आए।

राहुल अटैकिंग मोड में आये नजर

जब रोहित हर शॉट बहुत सावधानी से खेल रहे थे, केएल ने दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजों को मैदान के सभी कोनों पर मारना जारी रखा। उन्होंने आखिरकार स्पिनर एडेन मार्कराम को चौका लगाकर 24 गेंदों में अर्धशतक पूरा किया। राहुल ने 28 गेंदों में 5 चौके और 4 छक्के की मदद से शानदार 57 रन की अर्धशतकीय पारी खेली। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 203.57 का रहा।

Advertisement

राहुल को उनकी इस पारी के लिए मैन ऑफ द मैच का अवार्ड दिया गया। हालांकि, स्टार ओपनर को लगता है कि अगर कोई उस अवार्ड का हकदार था तो वह सूर्यकुमार यादव थे।

Advertisement

केएल राहुल और रोहित शर्मा के आउट होने के बाद, सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) और विराट कोहली (Virat Kohli) ने ताबड़तोड़ अंदाज में खेलना जारी रखा और अपने बल्ले से शानदार प्रदर्शन किया। चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे, सूर्यकुमार यादव ने अपनी धमाकेदार पारी में 5 चौके और इतने ही छक्के लगाते हुए 22 गेंद में 61 रन की बेहतरीन अर्धशतकीय पारी खेली। उन्हें टेम्बा बावुमा ने रन आउट किया। विराट कोहली 49 रन बनाकर नाबाद रहे।

Advertisement

राहुल को मिला मैन ऑफ द मैच का अवार्ड

मैच के बाद, जब केएल राहुल को प्लेयर ऑफ द मैच का अवार्ड प्रदान किया गया, तो उन्होंने कहा कि कैसे स्काई अवार्ड जीतने के हकदार थे न कि वह क्योंकि उन्होंने खेल की गति को बदल दिया।

उन्होंने कहा, “एक सलामी बल्लेबाज के रूप में यह समझना महत्वपूर्ण है कि एक दिन में क्या आवश्यक है और अपना सर्वश्रेष्ठ दें। यह वह मानसिकता है जिसमें मैंने हमेशा खेला है और आगे भी करता रहूंगा। ईमानदारी से कहूं तो पहले दो ओवर के बाद मेरे और रोहित के बीच बातचीत यह थी कि पिच पकड़ में आ रही थी। हमने सोचा था कि 180-185 अच्छा लक्ष्य होगा लेकिन खेल ने हमें चौंका दिया।”

Advertisement

राहुल ने आगे कहा, “मैं हैरान हूं कि मुझे मैन ऑफ द मैच का अवार्ड मिल रहा है, सूर्या को यह मिलना चाहिए था। उन्होंने खेल बदल दिया। मिडिल आर्डर में बल्लेबाजी करने के बाद, मुझे एहसास हुआ कि यह मुश्किल है। डीके को हमेशा बहुत ज्यादा गेंदे खेलने को नहीं मिलती है, और वह शानदार थे। सूर्या और विराट ने भी कमाल का प्रदर्शन किया।

पहली गेंद पर बैक फुट पंच ने मुझे सेट किया। जब मैं विकेट के दोनों तरफ खेलता हूं तो मुझे पता होता है कि मेरा संतुलन अच्छा है। यह बताता है कि मेरा सिर स्थिर है। भारत में हमेशा स्टेडियम में भीड़ उमड़ती है। दर्शकों से भरे हुए पूरे स्टेडियम में क्रिकेट खेले हुए काफी समय हो गया है। यह देखना शानदार रहा।”

Advertisement
Advertisement


Share The Post

Related Articles

Back to top button