Feature

वनडे करियर के डेब्यू मैच में शतक जड़ने वाले 5 बल्लेबाज जो आगे फ़्लॉप साबित हुए

Share The Post

अपने देश के लिए खेलना हर क्रिकेटर का सपना होता है। बड़े मंच में अपने देश का नाम ऊंचा करने की ख्वाहिश लेकर हर खिलाड़ी घरेलू क्रिकेट में कड़ी मेहनत करता है। बल्लेबाज शतक लगाता है और गेंदबाज विकेट लेते रहते हैं। इस बीच उसे तब तक परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जब तक अंतिम परिणाम उसके पक्ष में ना आ जाए। हमने अक्सर क्रिकेट की दुनिया में ऐसी ढेरों कहानियां सुनी है जिसमें खिलाड़ी कड़ी मेहनत के दम पर इंटरनेशनल क्रिकेट में अपनी जगह बना पाते हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डेब्यू मैच हर खिलाड़ी के लिए खास होता है।

हालांकि इंटरनेशनल टीम में जगह बनाना बहुत ही मुश्किल काम है मगर उससे भी ज्यादा मुश्किल है उस जगह को बरकरार रखना। हमने अक्सर ऐसा देखा है कि कुछ खिलाड़ी टीम में जगह बना तो लेते हैं मगर डेब्यू के कुछ मैच बाद ही चयनकर्ता उन्हें बाहर का रास्ता दिखा देते हैं। उनमें से कुछ खिलाड़ी ऐसे होते हैं जो शुरुआती मैचों में अच्छा प्रदर्शन तो करते हैं मगर बाद में फॉर्म में ना होने के कारण उनको कभी दोबारा मौका नहीं मिल पाता।

तो आइए आज बात करते हैं ऐसे पांच खिलाड़ियों के बारे में जिन्होंने अपने वनडे डेब्यू मुकाबले में ही शतक तो जड़ दिया मगर फिर वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से एकदम गायब हो गए।

Advertisement

5. कोलिन इंग्राम

दक्षिण अफ्रीका के इस बल्लेबाज का पदार्पण 2010 में जिंबाब्वे के खिलाफ हुआ था और उन्होंने अपने डेब्यू मैच में बेहतरीन शतक जड़कर अफ्रीकी टीम को मैच जिताने में अहम भूमिका निभाई थी। एक बेहतरीन प्रदर्शन के बाद उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के लिए कुछ मैच और खेले परंतु उनके प्रदर्शन में निरंतरता न होने के कारण उन्हें कभी दोबारा टीम में स्थायी जगह नहीं मिल पाई।

कोलिन इंग्राम ने 31 वनडे में 32.42 के औसत से 843 रन बनाए हैं। उनके द्वारा खेले गए 9 टी-20 मुकाबलों में उन्होंने 130 के स्ट्राइक रेट से 210 रन बनाए हैं। अंतर्राष्ट्रीय टीम में नियमित मौके ना मिल पाने के कारण, इंग्राम ने कॉलपैक डील साइन की और वह दुनियाभर की T20 लीग में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।

4. सलीम इलाही

महान आमिर सोहेल के साथ पारी का आगाज करने उतरे सलीम इलाही ने 1995 में अपने पहले ही वनडे मुकाबले में बेहतरीन शतक जड़कर पाकिस्तान को श्रीलंका के खिलाफ जीत दिलाई। उनके डेब्यू मैच में किए गए बेहतरीन प्रदर्शन से काफी पाकिस्तानी फैंस उनसे उम्मीद लगाए बैठे थे।

Advertisement

दुर्भाग्य से इलाही उनकी उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पाए और 2003 विश्व कप में बेहद निराशाजनक प्रदर्शन करके हमेशा के लिए टीम से बाहर हो गए। सलीम ने 48 वनडे मुकाबलों में 1579 रन बनाए थे। उनके जैसे तकनीकी रूप से सक्षम बल्लेबाज को क्रिकेट से दूर होते देखना हजम करने वाली बात नहीं है।

3. रॉब निकोल

रॉब निकोल मार्टिन गप्टिल के बाद दूसरे कीवी बल्लेबाज है जिन्होंने अपने पहले ही वनडे मुकाबले में शतक जड़ा। घुंघराले बाल वाले इस बल्लेबाज ने 2011 में जिंबाब्वे के खिलाफ मैच में डेब्यू किया जहां उन्होंने 108 रन की धमाकेदार पारी खेली।

जैसा की सूची में मौजूद बाकी दो बल्लेबाजों के साथ हुआ, रॉब को भी निरंतरता की कमी के कारण टीम से बाहर का रास्ता दिखाया गया। उन्होंने अपने करियर में 22 मुकाबले खेले जिसमें उन्होंने 30 के औसत से 586 रन बनाए।

Advertisement

2. माइकल लंब

क्रिकेट के शौकीन माइकल लंब को जरुर जानते होंगे जिन्होंने 2010 के T20 विश्व कप में इंग्लैंड के लिए ओपनिंग करते हुए बेहतरीन प्रदर्शन किया और इंग्लैंड को विश्व विजेता बनाने में अहम योगदान दिया।

वैसे तो लंब T20 में अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं लेकिन जब उन्होंने 2014 में अपना एकदिवसीय डेब्यू किया तो वहां भी उन्होंने बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए 106 रनों की मैच जिताऊ पारी खेली। परंतु 2015 विश्व कप के बाद इंग्लैंड की टीम में आए हुए बदलावों के कारण उन्होंने वनडे टीम में अपनी जगह खो दी और उन्हें कभी दोबारा मौका नहीं दिया गया।

1. आबिद अली

जब पाकिस्तानी टीम ताश के पत्तों की तरह बिखर रही थी उस वक्त उनकी टीम में आबिद अली के रूप में एक नया नाम आया। आबिद अली रन बनाने के साथ साथ पारी को संभालने का जिम्मा भी अपने कंधों पर ले सकते थे।

Advertisement

घरेलू मैचों में उनके बेहतरीन प्रदर्शन को देखते हुए सभी को इंतजार था उनके वनडे डेब्यू का। उन्होंने किसी को भी निराश ना करते हुए 2019 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुए अपने डेब्यू मैच में 112 रनों की शानदार पारी खेली। हालांकि पाकिस्तान में मैच जीत न सकी मगर आबिद अली ने सबको अपनी बल्लेबाजी द्वारा प्रभावित कर दिया था।

हालांकि अली की इस पारी के बाद उनका चुनाव 2019 के विश्व कप में हो गया था। मगर चीजें वैसी नहीं हुई जैसा वह चाहते थे और वह  सीमित ओवरों की टीम से बाहर हो गए। अब वह अपनी अच्छी टेक्निक की बदौलत पाकिस्तान के टेस्ट टीम के ओपनर बल्लेबाज के रूप में ही खेलते हैं। आबिद अली टेस्ट के बेहतरीन बल्लेबाज हैं और अभी तक खेले गए छह मैचों में उन्होंने 57 की औसत से 460 रन बनाए हैं।

Advertisement
Advertisement

Advertisement

Share The Post
Back to top button