News

न्यूजीलैंड क्रिकेट में खिलाड़ियों की एक निश्चित उम्र के बाद कोई अहमियत नहीं होती है: मिशेल मैक्लेनाघन

Share The Post

न्यूजीलैंड के अनुभवी तेज गेंदबाज मिशेल मैक्लेनाघन ने कहा कि न्यूजीलैंड क्रिकेट में खिलाड़ियों की एक निश्चित उम्र के बाद कोई अहमियत नहीं होती है। उन्होंने कहा कि लंबे करियर को पुरस्कृत किया जाना चाहिए ताकि खिलाड़ियों के लिए इनकम की अधिक सुरक्षा मिल सके। 36 वर्षीय खिलाड़ी ने कीवी टीम के लिए 77 मैच खेले हैं और आखिरी बार साल 2018 में अंतरराष्ट्रीय सर्किट में दिखाई दिए थे। मैक्लेनाघन ने कहा कि जब किसी खिलाड़ी का अनुबंध लंबी अवधि के आधार पर होता है, जैसा कि न्यूजीलैंड की रग्बी टीम में होता है, तो उन्हें नौकरी की सुरक्षा के बारे में चिंतित होने की जरूरत नहीं है, जबकि उन्हें अच्छा पैसा भी दिया जाता है।

उन्होंने कॉलिन डी ग्रैांडहोम के बारे में भी बात करते हुए कहा कि वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से रिटायरमेंट को समझते हैं इसलिए उन्होंने रिटायरमेंट से पहले अपनी नौकरी सुनिश्चित कर ली थी।

Advertisement

एसईएनजेड ब्रेकफास्ट शो में मैक्लेनाघन ने कहा, “मुझे लगता है कि एक बार जब आप एक निश्चित उम्र में पहुंच जाते हैं, तो आप न्यूजीलैंड क्रिकेट में खेलने के लिए फिट नहीं होते हैं। मुझे लगता है कि इस खेल में लंबी करियर के लिए कुछ इनाम होना चाहिए, खासकर जब आप न्यूजीलैंड की टीम के लिए खेल रहे हो तब।”

Advertisement

आप कल अपनी नौकरी खो सकते हैं इसलिए आपकी सारी सुरक्षा खिड़की से बाहर है: मैक्लेनाघन

उन्होंने आगे कहा, “आप न्यूजीलैंड की टीम में साल दर साल के कॉन्ट्रैक्ट पर खेलते हैं जिससे आपको आगे की कोई गारंटी नहीं होती है। न्यूजीलैंड की रग्बी टीम के पार लंबी अवधि के आधार पर कॉन्ट्रैक्ट होता है जहां आपको रिटायर होने के बाद इनकम के बारे में सोंचने की जरूरत नहीं होती है। लंबी अवधि के कॉन्ट्रैक्ट में आपको अच्छे पैसे मिलते हैं जसके बाद आपको अपने परिवार के बारे में सोंचने की जरूरत नहीं पड़ती है।

अगर कल आपकी जॉब नहीं रहती है तो आपके पास इनकम के सारे रास्ते बंद हो जाते हैं। तो मैं समझ सकता हूं कि क्यों कॉलिन ने रिटायरमेंट से पहले अपना जॉब सुनिश्चित किया और फिर रिटायरमेंट की घोषणा की।

Advertisement
Advertisement
Advertisement


Share The Post
Back to top button