FeatureNews

दिल्ली कैपिटल्स के उन खिलाड़ियों की सबसे मजबूत प्लेइंग इलेवन जिन्हें फ्रेंचाइजी ने अलग कर दिया था

Share The Post

स्टार खिलाड़ियों से सुसज्जित दिल्ली कैपिटल्स इस बार आईपीएल ख़िताब का प्रबल दावेदार माने जा रही है। आईपीएल के पहले संस्करण से जुड़ी हुई इस फ्रेंचाइजी को पहले दिल्ली डेयर डेविल्स के नाम से जाना जाता था लेकिन साल 2019 में इसका नाम बदलकर दिल्ली कैपिटल्स रखा गया।

आईपीएल पॉइंट टेबल में टॉप पर बनी हुई दिल्ली कैपिटल्स को अब भी आईपीएल ख़िताब जीतने का इंतजार है। डीसी ने कई बार प्ले ऑफ में जगह बनाई है। यहाँ तक कि आईपीएल 2020 में फ्रेंचाइजी फाइनल में भी पहुंची थी लेकिन, दुर्भाग्यवश खिताब जीतने में नाकामयाब रही।

आईपीएल के पहले सीजन से अब तक यानि बीते 13 वर्षों में कई धाकड़ बल्लेबाज और शानदार गेंदबाजों ने दिल्ली का प्रतिनिधित्व किया है। यदि इस फ्रेंचाइजी से अलग किए जा चुके सभी खिलाड़ियों को मिलाकर एक प्लेइंग इलेवन तैयार की जाए तो वह आईपीएल इतिहास में दिल्ली कैपिटल्स की सबसे मजबूत प्लेइंग इलेवन होगी। आइये एक नजर डालते हैं इस प्लेइंग इलेवन पर…

Advertisement

सलामी बल्लेबाज- वीरेन्द्र सहवाग (कप्तान) और डेविड वार्नर

इसमें कोई दो राय नही है कि, भले ही सहवाग ने टेस्ट में तिहरा शतक बनाया हो और वनडे में दोहरा शतक लगाने का कारनामा किया हो। लेकिन, उनकी वास्तविक शैली टी-20 के अनुरूप ही रही है। चाहे वह पारी की पहली गेंद हो या फिर वह शतक के करीब हों, सहवाग ने हर परिस्थिति में बाउंड्री हासिल करने का प्रयास किया है। जो कि, उन्हें टी-20 क्रिकेट के लिए एकदम फिट दर्शाता है।

वीरेंद्र सहवाग जैसा विस्फोटक बल्लेबाज आईपीएल की प्रत्येक फ्रेंचाइजी की मांग थी। हालांकि, दिल्ली ने उन्हें फ्रेंचाइजी से जाने दिया और एक बेहतरीन खिलाड़ी गंवा दिया था। दिग्गज बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग इस टीम का नेतृत्व करते हुए भी दिखाई देंगे।

सहवाग के साथ दिल्ली कैपिटल्स की ओपनिंग के लिए यदि कोई नाम उपयुक्त होता तो वह था सचिन तेंदुलकर का किन्तु सचिन ने कभी भी दिल्ली का प्रतिनिधित्व नही किया। ऐसे में दूसरा कोई अन्य खिलाड़ी जो सहवाग के जैसे ही विस्फोटक हो वह हैं ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डेविड वार्नर।

Advertisement

दिल्ली कैपिटल्स द्वारा वार्नर को रिहा जाने के बाद उन्होंने आईपीएल में तीन ऑरेंज कैप अपने नाम की हैं। इतना ही नही, साल 2016 में वार्नर की कप्तानी में ही सनराइजर्स हैदराबाद आईपीएल ट्राफी जीतने में कामयाब रही।

मध्यक्रम- गौतम गंभीर, संजू सैमसन और एबी डिविलियर्स

कोलकाता नाइट राइडर्स को दो बार आईपीएल खिताब दिलाने वाले गौतम गंभीर ने दिल्ली की भी कप्तानी की है। यूँ तो गंभीर बतौर सलामी बल्लेबाज खेलते हुए नजर आते थे। लेकिन, दिल्ली कैपिटल्स की सबसे मजबूत प्लेइंग बनाने के लिए उन्हें मध्यक्रम में रखा गया है। गंभीर नम्बर तीन पर आकर पॉवर प्ले या उसके बाद भी शानदार बल्लेबाजी कर सकते हैं।

बात यदि संजू सैमसन की करें तो, वह अभी राजस्थान रॉयल्स में कप्तान की भूमिका पर हैं। लेकिन, उन्होंने दिल्ली की ओर से खेलते हुए बेहतरीन प्रदर्शन किया है। दिल्ली कैपिटल्स के लिए कई मैच जिताऊ पारी खेलने वाले संजू सैमसन ने दिल्ली के लिए शतक भी बनाया था। हालांकि फ्रेंचाइजी उन्हेंरोकने में असफल रही और अब वे राजस्थान रॉयल्स में उम्दा खेल खेल रहे हैं।

Advertisement

मिस्टर 360 यानि एबी डिविलियर्स के बल्लेबाजी तरकश में गेंदबाजों की हर गेंद का जवाब उपलब्ध होता है। आईपीएल के सबसे बड़े खिलाड़ियों में से एक एबीडी ने दिल्ली के लिए खेलते हुए हर गेंदबाजी आक्रमण को नष्ट किया है। वर्तमान में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के लिए खेलने वाले डिविलियर्स ने अपने बल्लेबाजी कौशल से हर किसी को प्रभावित किया है।

ऑलराउंडर- आंद्रे रसेल, क्रिस मॉरिस और इरफान पठान

वेस्टइंडीज के ऑल राउंडर खिलाड़ी आंद्रे रसेल सबसे बड़े गेम चेंजर के रूप में जाने जाते हैं। बल्ले और गेंद दोनों से अपनी टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ करने वाले रसेल जब दिल्ली की ओर से खेल रहे थे तब भी उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया था। फिर भी, दिल्ली ने उन्हें रिलीज किया जिसका लाभ केकेआर ने उठाया और अब वह कोलकाता के लिए गेम चेंजर की भूमिका अदा कर रहे हैं।

क्रिस मॉरिस साल 2019 के आईपीएल तक कैपिटल्स का हिस्सा थे लेकिन अगली दो नीलामियों (2020 और 2021) में भारी भरकम बोली अर्जित की। एक ऑल राउंडर के रूप में मॉरिस का अब तक का रिकॉर्ड बेहतरीन रहा है तभी वह सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए आईपीएल के सबसे महंगे खिलाड़ी हैं।

Advertisement

पूर्व भारतीय ऑलराउंडर इरफान पठान ने दिल्ली का प्रतिनिधित्व करते हुए शानदार गेंदबाजी का प्रदर्शन किया था। दिल्ली के लिए 46 मैचों में 29 विकेट हासिल करने वाले पठान ने बल्ले से भी कमाल दिखाते हुए कुल 468 रन भी बनाए थे।

गेंदबाज- मोर्ने मोर्कल, ट्रेंट बोल्ट और इमरान ताहिर

मोर्ने मोर्कल और ट्रेंट बोल्ट किसी भी बल्लेबाजी लाइन-अप को नेस्तनाबूद करने के लिए काफी हैं। मोर्ने मोर्कल दिल्ली के लिए एक सीजन में सबसे अधिक विकेट लेने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं। मोर्केल ने साल आईपीएल 2012 में कुल 25 विकेट हासिल किए थे।

दिल्ली की ओर से खेलते हुए पर्पल कैप जीतने वाले ट्रेंट बोल्ट को साल 2020 की आईपीएल नीलामी में मुंबई इंडियंस ने खरीद लिया था। इससे पहले उन्होंने लगातार दिल्ली के लिए बेहतरीन गेंदबाजी की थी और फ्रेंचाइजी को कई मैच जीतने में कामयाबी दिलाई थी।

Advertisement

दिल्ली की मजबूत प्लेइंग इलेवन में इमरान ताहिर, एक मात्र स्पिनर होंगे। दिल्ली से रिलीज किए जाने के बाद ताहिर बे चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए पर्पल कैप भी जीती थी। 2014 से 2016 तक दिल्ली का प्रतिनिधित्व करने वाले ताहिर की स्पिन गेंदबाजी का लोहा कर कोई मानता है।

दिल्ली कैपिटल्स की सबसे मजबूत प्लेइंग इलेवन इस प्रकार होगी- वीरेन्द्र सहवाग, डेविड वार्नर, गौतम गंभीर, संजू सैमसन, एबी डिविलियर्स, आंद्रे रसेल, क्रिस मॉरिस, इरफान पठान, मोर्ने मोर्कल, ट्रेंट बोल्ट और इमरान ताहिर

Advertisement
Advertisement

Advertisement

Share The Post

Related Articles

Back to top button