FeatureIPL

इन दिग्गज खिलाड़ियों ने आईपीएल की एक पारी में सिर्फ बाउंड्री से 100+ रन बनाए हैं

Share The Post

टी 20 क्रिकेट की एक पारी में किसी भी टीम को खेलने के लिए 20 ओवर यानी 120 गेंदें उपलब्ध होती हैं। इसलिए, क्रिकेट के इस छोटे प्रारूप को शतक बनाने के लिए सबसे कठिन माना जाता है। हालांकि, टी 20 क्रिकेट में शतक लगाना मुश्किल है नामुमकिन नही। इसलिए, अब तक कई क्रिकेटर टी 20 क्रिकेट में शतक जड़ चुके हैं। यह सभी खेल प्रशंसकों के लिए आम बात है कि, क्रिकेट के इस सबसे छोटे फॉर्मेट में बाउंड्री की बौछार होती है। लेकिन, आप यह जानकर हैरान हो सकते हैं कि कुछ बल्लेबाजों ने आईपीएल में शतक बनाने के दौरान 100 से अधिक रन सिर्फ बाउंड्री से ही अपने खाते में जोड़ लिए थे।

इस शानदार नोट के साथ, आज के इस लेख में, हम उन खिलाड़ियों पर एक नज़र डालेंगे, जिन्होंने आईपीएल की एक पारी में सिर्फ बाउंड्री से ही 100 से अधिक रन बनाए हैं।

5.) ऋषभ पंत:

ऋषभ पंत आईपीएल 2017 से हर सीजन 300 से अधिक रन बनाते आ रहे हैं। आईपीएल 2018 में पंत बेहद शानदार फॉर्म में थे। इस सीजन उन्होंने एक शतक व 5 अर्धशतक के साथ 684 रन बनाए थे। हालांकि, वह अब तक आईपीएल में सिर्फ एक ही शतक बना पाएं हैं।

Advertisement

गौरतलब है कि, अपने आईपीएल करियर के दूसरे सीजन यानी आईपीएल 2017 में, वह केवल तीन रनों से शतक से चूक गए थे। लेकिन, अगले ही सीजन उन्होंने सनराइजर्स हैदराबाद के साथ हुए मुकाबले में लाजवाब शतक जड़ा था।

दिल्ली कैपिटल्स की ओर से खेलते हुए ऋषभ पंत का यह शतक उस समय आया था जब उनकी टीम शुरुआती विकेट खोकर संघर्ष कर रही थी। उस मैच में, दिल्ली कैपिटल्स की स्थिति ऐसी हो गई थी कि, पंत को पावरप्ले में ही बल्लेबाजी करने के लिए आना पड़ा था।

इस दबाव के बावजूद, बाएं हाथ के इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने अपने आईपीएल करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए हैदराबाद के गेंदबाजों को हैरान-परेशान कर दिया था। ऋषभ पंत ने उस मैच में 63 गेंदों में 128 रन की नाबाद पारी खेलते हुए टीम का स्कोर 188 रन तक पहुंचा दिया था। पंत ने अपनी इस बेहतरीन पारी में 15 चौके और 7 छक्के जड़े थे। यानी कि, उन्होंने सिर्फ बाउंड्री से ही 102 रन अपने खाते में जोड़ लिए थे।

Advertisement

4.) सनथ जयसूर्या:

आईपीएल के शुरुआती संस्करण यानी आईपीएल 2008 में मुंबई इंडियंस की शुरुआत अच्छी नही थी। टीम में निरंतर बदलाव के बाद भी सफलता मुंबई से दूर ही दिखाई पड़ती थी।  हालांकि, एक स्तर के बाद असफलता से सीखते हुए सफलता प्राप्त करना कहीं अधिक आसान होता है। उस सीजन, मुंबई इंडियंस के साथ भी यही हुआ था।

आईपीएल 2008 के 36वें मैच में मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपरकिंग्स आमने सामने थे। इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई की शुरुआत अच्छी नही थी। हालांकि, मध्यक्रम के बेहतरीन प्रदर्शन के बाद चेन्नई 150 के आंकड़े को पार करने में सफल हो गई थी।

पहली पारी की समाप्ति के बाद मुंबई के सामने 156 रनों का लक्ष्य था। पिच के मिजाज और चेन्नई की गेंदबाजी आक्रमण को देखते हुए इस लक्ष्य को कठिन जा रहा था। लेकिन, श्रीलंकाई दिग्गज सनथ जयसूर्या जैसे ड्रेसिंग रूम से ही सेट होकर आए थे। जयसूर्या ने मनप्रीत गोनी और एल्बी मोर्कल की गेंदों पर हवाई फायर करते हुए पावरप्ले का भरपूर फायदा उठाया था। यहां तक कि उन्होंने अपने हम वतन चमारा कापुगेदारा को भी नहीं बख्शा था।

Advertisement

चेन्नई के साथ हुए इस मैच में, जयसूर्या ने महज 48 गेंदों में 9 चौकों और 11 गगनचुंबी छक्कों की मदद से 114 रन बनाए थे।जिसमें से उन्होंने बाउंड्री से ही 102 रन बनाए थे। सनथ जयसूर्या के क्लास का कमाल ही था कि, मुंबई इस मैच को 14वें ओवर में ही जीतने में कामयाब हो गई थी।

3.) ब्रेंडन मैकुलम:

ब्रेडन मैकुलम की आईपीएल 2008 के पहले ही मैच में खेली गई यह पारी शायद ही कोई भूल सका हो। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ हुए इस मैच में मैकुलम ने 73 गेंदों में 158 रनों की नाबाद पारी खेली थी। इस आतिशी पारी के साथ ब्रेंडन उन खिलाड़ियों की सूची में प्रवेश करने वाले पहले प्लेयर थे। जिन्होंने आईपीएल की एक पारी में सिर्फ बाउंड्री से ही 100 से अधिक रन बनाए थे।

किसी भी मैच में चौकों से अधिक छक्कों का लगना बहुत कम देखा गया है। लेकिन, अपनी इस पारी में ब्रेंडन मैकुलम ने 10 चौके और 13 छक्के जड़े थे। यानि कि, उन्होंने सिर्फ बाउंड्री से ही 118 रन अर्जित किए थे। मैकुलम की अविश्वसनीय लगने वाली इस अविश्वसनीय पारी की बदौलत ही कोलकाता नाइट राइडर्स ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के सामने 223 रनों का पहाड़ जैसा लक्ष्य खड़ा कर दिया था। जिसके जवाब में आरसीबी महज 82 रनों में ढेर हो गई थी।

Advertisement

2.) एबी डिविलियर्स:

हाल ही में क्रिकेट के सभी फॉर्मेट्स को अलविदा कहने वाले एबी डिविलियर्स ने इस कारनामें को दो बार अंजाम दिया है।डीविलियर्स ने पहली बार साल 2015 में हरभजन सिंह, बुमराह, हार्दिक पांड्या जैसे गेंदबाजी आक्रमण से सजी हुई मुंबई इंडियंस के खिलाफ शतक जड़ते हुए सिर्फ बाउंड्री से ही 100 से अधिक रन बनाए थे। डिविलियर्स ने उस मैच में 59 गेंदों में 133 रन बनाए थे। जिसमें, उनके बल्ले से 19 चौके और 4 छक्के निकले थे।

दक्षिण अफ्रीकी सुपरमैन डिविलियर्स को यह कारनामा दोहराने में अधिक समय नही लगा और उन्होंने अगले ही सीजन में आईपीएल की नई नवेली फ्रेंचाइजी गुजरात लायंस के खिलाफ एक बार फिर धमाल मचाया था। इस मैच में एबीडी ने मात्र 52 गेंदों में 129 की नाबाद पारी खेली थी, जिसमें उन्होंने 10 चौके और 12 छक्कों की मदद से 112 रन बनाए थे।

1.) क्रिस गेल:

बेशक, यूनिवर्स बॉस इस सूची में सबसे आगे हैं। आईपीएल 2011 और 2015 के बीच, गेल आश्चर्यजनक फॉर्म में थे। उन्होंने इस दौरान आईपीएल 2011 और 2012 में दो लगातार वर्षों में ओरेंज कैप भी अपने नाम की थी।

Advertisement

अप्रत्याशित रूप से, बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज क्रिस गेल ने तीन बार सिर्फ बाउंड्री से 100 से अधिक रन बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है। गेल ने, पहली बार आईपीएल 2012 में दिल्ली के खिलाफ 7 चौकों 12 छक्कों की मदद से 62 गेंदों में 128 रन बनाए थे।

इसके बाद उन्होंने पुणे के खिलाफ अपनी 175 * की यादगार पारी के साथ इस उपलब्धि को दोहराया था। जिसमें उन्होंने 13 चौके और 17 छक्कों की मदद से सिर्फ बाउंड्री से ही 154 रन बनाए थे। यह अभी भी आईपीएल में सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर है। इसके बाद गेल ने आईपीएल 2015 में पंजाब किंग्स के खिलाफ 57 गेंदों में 117 रन बनाए। जिसमें उनके बल्ले से 7 चौके और 12 छक्के निकले थे। यानी उन्होंने 100 रन बाउंड्री से बनाए थे।

Advertisement
Advertisement

Advertisement

Share The Post

Related Articles

Back to top button