Feature

5 कारण क्यों एमएस धोनी आईपीएल इतिहास के सबसे बेहतरीन कप्तान हैं

Share The Post

एमएस धोनी (MS Dhoni) आईपीएल (IPL) के सबसे प्रभावशाली कप्तान और खिलाड़ी कहें जा सकते हैं। महेंद्र सिंह धोनी और चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल का एक अहम हिस्सा हैं। 13 साल के आईपीएल के इतिहास में एमएस धोनी एक ऐसा नाम है जो शुरुआत से इस बहुचर्चित टूर्नामेंट में बना हुआ है और अभी तक अपना योगदान दे रहा है।

उन्होंने आईपीएल के पहले संस्करण में ही चेन्नई सुपर किंग्स को फाइनल मुकाबले में पहुंचाया था वह भी तब जब उस टीम में कोई भी बड़ा भारतीय नाम नहीं था। हम सब जानते हैं कि धोनी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे बेहतरीन कप्तानों में से एक हैं।

 

Advertisement

उन्होंने अपनी यही सफलता आईपीएल में भी दोहराई और चेन्नई सुपर किंग्स को तीन बार चैंपियन बनाया। उन्होंने अपनी कप्तानी में चेन्नई को दो बार चैंपियंस लीग टी20 में भी जीत दर्ज करवाई।

 

यह भी पढ़ें : 4 खिलाड़ी जो इस साल आईपीएल में ऑरेंज कैप जीतने के प्रबल दावेदार हैं

Advertisement

आइए जानते हैं 5 कारणों के बारे में जो बताते है की एमएस धोनीआईपीएल इतिहास के सर्वश्रेष्ठ कप्तान हैं

 

#5-हमेशा युवाओं को प्रोत्साहन देना

वैसे तो धोनी की टीम को बुजुर्गों की टीम कहा जाता है, मगर सच तो यह है कि महेंद्र सिंह धोनी अक्सर ही युवाओं पर भरोसा जताते हुए दिखते हैं और उनके इस प्रोत्साहन की वजह से ही कई युवा खिलाड़ी भारतीय टीम में भी अपनी जगह बना पाए हैं।

रविंद्र जडेजा के ऊपर धोनी के भरोसे की बदौलत ही वह आज भारतीय टीम का इतना बड़ा हिस्सा बने हैं। धोनी की छत्रछाया में ही दीपक चाहर भी एक बेहतरीन तेज गेंदबाज बन कर उभरे हैं जिनके नाम T20 में विश्व रिकॉर्ड भी दर्ज है।

Advertisement

 

#4- सम्पूर्ण टीम प्लेयर

धोनी से बड़ा संपूर्ण टीम प्लेयर शायद ही हमने कभी देखा हो। हमेशा ही टीम को अपने से ऊपर रखने वाले धोनी की बैटिंग पोजिशन को लेकर हमेशा ही काफी चर्चाएं हुई है मगर वह सिर्फ इसलिए क्योंकि धोनी टीम के जरूरत के हिसाब से ही खुद को बल्लेबाजी में ऊपर या नीचे उतारते हैं।

अगर धोनी चाहते तो बल्लेबाजी में ऊपर आकर आईपीएल में ढेर सारे रन और शतक भी बना सकते थे, मगर उनकी यही बात एक संपूर्ण टीम प्लेयर की निशानी है और शायद यही उनकी कप्तानी की सफलता का कारण भी है।

Advertisement

#3-बेहद शांत और ठंडे दिमाग से कप्तानी करना

अक्सर हमने कप्तानों को देखा है कि जब मैच अंतिम ओवरों में जाता है और टीम हार की ओर बढ़ रही होती है तो वह काफी चिंता में नजर आते हैं, मगर धोनी इन सब से बिल्कुल ही अलग हैं। उनका शांत और ठंडा दिमाग कई बार चेन्नई को हारे हुए मुकाबले भी जिता देता है।

धोनी अक्सर ही ऐसे मौके पर काफी धैर्य से काम लेते है और कभी भी जल्दबाजी में कोई ऐसा फैसला नहीं लेते हैं जिससे टीम असमंजस में पड़ जाए और यही वजह है कि चेन्नई सुपर किंग आज एक इतनी सफल फ्रेंचाइजी है।

 

Advertisement

#2- सही वक्त पर बेहतरीन फैसले लेना

हमने अक्सर ही धोनी को कुछ ऐसे फैसले लेते देखा है जो लोगों को आश्चर्यचकित कर देते हैं, मगर उनके यही पैंतरे जब मैच में काम आते हैं तो लोग खुशी से झूम उठते हैं और उनकी तारीफों के पुल बांधते नहीं थकते हैं।

2018 आईपीएल में अंबाती रायडू को ओपनिंग कराने का फैसला हो, 2011 के फाइनल मुकाबले में क्रिस गेल के सामने रविचंद्रन अश्विन को गेंदबाजी करवाना हो या फिर फाइनल मुकाबले में पोलार्ड के लिए स्ट्रेट मिड ऑफ़ का फील्डर लगाना हो, कुछ ऐसे ही सटीक फैसलों के दम पर धोनी ने कई हारे हुए मुकाबले जीते हैं।

 

Advertisement

#1-बतौर कप्तान आईपीएल में सबसे ज्यादा मुकाबलों में जीत

एमएस धोनी आईपीएल में कप्तान के तौर पर बहुत ही जबरदस्त रिकॉर्ड रखते हैं जो इस बात की पुष्टि करता है कि वह आईपीएल इतिहास के सबसे बेहतरीन कप्तान रहे हैं। अपनी कप्तानी में खेले गए 192 मैचों में महेंद्र सिंह धोनी के नाम 113 जीत हैं जो किसी भी कप्तान के द्वारा दर्ज की गई सबसे ज्यादा हैं।

 

इसके साथ ही धोनी ने रिकॉर्ड 8 बार चेन्नई सुपर किंग्स को आईपीएल के फाइनल में प्रवेश करवाया है और आईपीएल 2020 के अलावा हर साल उन्हें प्लेऑफ तक का सफर तय करवाया है। इन सबके अलावा उनकी कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स तीन बार आईपीएल विजेता भी बनी है। यह सब रिकॉर्ड बयां करते हैं कि धोनी आईपीएल के सर्वश्रेष्ठ कप्तान हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement


Share The Post

Related Articles

Back to top button