CricketFeature

5 खिलाड़ी जो सिर्फ कप्तान होने की वजह से टीम में थे

Share The Post

क्रिकेट के खेल में कप्तानों का अहम स्थान होता है। एक टीम में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हो सकते हैं। हालांकि, अगर टीम में एक सक्षम व्यक्ति नहीं है जो टीम को लीड कर सके, तो कागज पर सबसे मजबूत टीम भी बड़े टूर्नामेंट में लड़खड़ा सकती हैं।

Advertisement

पिछले कई सालों में क्रिकेट जगत में कुछ महान कप्तान देखने को मिले है। क्रिकेट इतिहास में ऐसे कई उदाहरण हैं जब एक कप्तान को खराब फॉर्म के बावजूद प्लेइंग इलेवन से सिर्फ इसलिए नहीं हटाया गया क्योंकि वह टीम का कप्तान था। अंतत: या तो टीम मैनेजमेंट ने उन्हें हटा दिया या खिलाड़ी ने सीधे संन्यास ले लिया। तो आज हम आपको ऐसे ही 5 खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे है।

1. टिम पेन

ऑस्ट्रेलिया के टीम में मैथ्यू वेड और एलेक्स कैरी जैसे कुछ प्रतिभाशाली विकेटकीपर थे। हालांकि टेस्ट में उन्हें अभी तक ज्यादा खेलने का मौका नहीं मिला क्योंकि टेस्ट मैच में खराब प्रदर्शन करने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज टिम पेन (Tim Paine) सिर्फ इसलिए टीम में थे क्योंकि वह सैंडपेपर गेट के बाद कप्तान थे। पेन फिलहाल टीम से बाहर चल रहे है।

Advertisement

पेन के टेस्ट करियर की बात की जाए तो उन्होंने 35 मैच खेले है और 32.66 के औसत की मदद से 1535 रन अपने खाते में जोड़ने में कामयाब रहे है। इस दौरान उनके बल्ले से 9 अर्धशतक देखने को मिले है। 23 पेन के कप्तानी करियर की बात की जाए तो उन्होंने 23 मैचों में टीम की कमान संभाली है जिसमें से ऑस्ट्रेलिया को 11 में जीत और 8 में हार मिली है। वहीं 4 मैच ड्रा हो गए है।

Advertisement

2. एरोन फिंच

इस लिस्ट में शामिल होने वाला एक और ऑस्ट्रेलियाई एरोन फिंच (Aaron Finch) है। दाएं हाथ का यह बल्लेबाज काफी समय से वनडे क्रिकेट में संघर्ष कर रहा था और आखिरकार उन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ खत्म हुई हुई वनडे सीरीज के बाद इस फॉर्मेट को अलविदा कह दिया।

दाएं हाथ के बल्लेबाज फिंच के वनडे करियर की बात की जाए तो उन्होंने 146 मैच खेले और 38.89 के औसत की मदद से 5406 रन अपने खाते में जोड़े है। इस दौरान फिंच ने 17 शतक और 30 अर्धशतक लगाए है।

3. डैरेन सैमी

पूर्व कैरेबियाई कप्तान डैरेन सैमी (Darren Sammy) विश्व स्तरीय कप्तान थे, जिन्होंने टी20 प्रारूप में अपनी कप्तानी में वेस्टइंडीज को दो वर्ल्ड कप जिताये थे। हालाँकि, एक ऑलराउंडर के रूप में, वह प्रतिभाशली क्रिकेटर थे।

दाएं हाथ के बल्लेबाजी ऑलराउंडर के टी20 इंटरनेशनल करियर की बात करें तो उन्होंने 68 मैच खेले है और 147.49 के स्ट्राइक रेट की मदद से 587 रन बनाये है। वहीं गेंदबाजी करते हुए उन्होंने 7.31 के इकॉनमी रेट की मदद से 44 विकेट लिए है। वेस्टइंडीज ने उनकी कप्तानी में 2012 और 2016 का टी20 वर्ल्ड कप जीता था।

Advertisement

4. माइकल क्लार्क

माइकल क्लार्क (Michael Clarke) की पीठ की समस्या का उनके खेल पर गहरा असर पड़ा। उनका फॉर्म 2015 में गिर गया था, और यहां तक ​​​​कि क्लार्क ने भी यह कहकर स्वीकार किया था, “मुझे लगता है कि किसी भी विपक्षी को हराना हमेशा कठिन होता है जब उनके पास 11 और हमारे पास केवल 10 होते हैं।”

दाएं हाथ के बल्लेबाज के वनडे करियर की बात की जाए तो उन्होंने 245 मैच खेले है और 44.59 के औसत की मदद से 7981 रन अपने नाम किये है। वनडे में उनके नाम 8 शतक और 58 अर्धशतक दर्ज है।

5. इयोन मोर्गन

इंग्लैंड की टी20 इंटरनेशनल टीम में कई बड़े-हिटर्स लाइन में थे, लेकिन टी20 वर्ल्ड कप के बाद लंबे समय तक, इयोन मॉर्गन (Eoin Morgan) ने कप्तान के रूप में मिडिल आर्डर में खेले। इस साल जून में मॉर्गन ने संन्यास की घोषणा की थी।

बाएं हाथ के बल्लेबाज के टी20 इंटरनेशनल करियर की बात करें तो उन्होंने 115 मैच खेले है और 136.18 के औसत की मदद से 2458 रन बनाये है। टी20 इंटरनेशनल में उनके नाम 14 अर्धशतक दर्ज है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement


Share The Post

Related Articles

Back to top button