CricketFeature

4 खिलाड़ी जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में की शानदार शुरुआत लेकिन बाद में फीके पड़ गए

Share The Post

इंटरनेशनल क्रिकेट खेलना हर उस खिलाड़ी का सपना होता है जो इस खेल को पेशेवर रूप से अपनाता है। हालांकि, हर कोई उस सपने को हासिल करने में कामयाब नहीं हो पाता है। नेशनल टीम में जगह बनाने के लिए खिलाड़ियों को घरेलू मैचों या अन्य टूर्नामेंटों में लगातार अच्छा प्रदर्शन करने की जरूरत होती है, जहां चयनकर्ताओं की नजर रहतीहैं।

Advertisement

हालांकि, सिर्फ इंटरनेशनल क्रिकेट में जगह बनाना और पहले मैच में अच्छा प्रदर्शन करना ही काफी नहीं है। खिलाड़ियों को टीम में अपनी जगह बनाए रखने के लिए लगातार अच्छा प्रदर्शन करने की जरूरत है। तो आज हम आपको उन 4 खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे है जो इंटरनेशनल क्रिकेट में शानदार शुरुआत के बाद फीके पड़ गए।

1. नरेंद्र हिरवानी

इस लिस्ट में टॉप पर नरेंद्र हिरवानी (Narendra Hirwani) अपना नाम दर्ज करवाने में सफल हो गए है। स्पिन गेंदबाज नरेंद्र हिरवानी ने भारत के लिए 1988 में वेस्टइंडीज के खिलाफ डेब्यू किया और मैच में 16 विकेट अपने नाम किये। हालांकि जब वे विदेश में खेलने गए तो उनका प्रदर्शन वैसा नहीं रहा। जल्द ही, उन्होंने भारतीय टीम में अपनी जगह खो दी।

Advertisement

हिरवानी के टेस्ट करियर की बात की जाए तो उन्होंने 17 मैच खेले है और 30.11 के औसत की मदद से 66 बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाने में सफलता पायी है। इसके अलावा उन्होंने भारत के लिए 18 वनडे मैच भी खेले है और 31.26 के औसत की मदद से 23 बल्लेबाजों को अपना शिकार बनाया है।

Advertisement

2. रोब निकोल

दाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज रॉब निकोल (Rob Nicol) ने जिम्बाब्वे के खिलाफ हरारे स्पोर्ट्स क्लब में शतक बनाकर न्यूजीलैंड टीम के लिए अपने वनडे करियर की शानदार शुरुआत की। उन्होंने इसके बाद वनडे में 146 रनों की एक और पारी खेली।

हालांकि वो अपने वनडे करियर में सिर्फ 22 मैच ही खेले है और 30.84 की औसत से 586 रन बनाये है। इस दौरान उन्होंने 2 शतक के अलावा दो अर्धशतक भी लगाए है। डेब्यू करने के ठीक सात साल बाद, निकोल ने संन्यास ले लिया। निकोल ने न्यूजीलैंड के लिए 21 टी20 इंटरनेशनल मैच भी खेले है और 110.47 के स्ट्राइक रेट से 327 रन बनाये है। इसके अलावा उन्होंने 2 टेस्ट मैच भी खेले है और 28 रन बनाये है।

3. खालिद अब्दुल्ला

खालिद अब्दुल्ला (Khalid Abdulla) ने काउंटी क्रिकेट में बहुत सारे मैच खेले। अब्दुल्ला ने जल्द ही टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया और अपने पहले टेस्ट में शतक बनाने वाले पाकिस्तान के पहले खिलाड़ी बने। हालांकि, उनका करियर ज्यादा लंबा नहीं चल सका।

4. जेसन क्रेजा

इस लिस्ट में जेसन क्रेजा (Jason Krejza) भी अपना नाम दर्ज करवाने में सफल हो गए है। क्रेजा, जो वर्तमान में रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज 2022 में ऑस्ट्रेलिया लीजेंड्स के लिए खेल रहे हैं उन्होंने 2008 में भारत के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया और इसको उन्होंने यादगार बना दिया।

Advertisement

अपनी पहले ही टेस्ट मैच में उन्होंने 12 विकेट लेकर शुरुआत की। हालांकि, अगले गेम में उन्होंने 204 रन देकर केवल एक विकेट ही ले पाए। इसके बाद, उन्हें टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया और वो फिर वापसी नहीं कर पाए। ऑस्ट्रेलिया के इस स्पिनर ने 8 वनडे मैच भी खेले है और 47.29 के इकॉनमी रेट की मदद से 7 बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाने में सफलता पायी है।

Advertisement
Advertisement


Share The Post

Related Articles

Back to top button